Sunday, November 27, 2022
Homeमध्यप्रदेशStartup in Indore इंदौर ने स्वयं को देश की 'स्टार्टअप वैली' की...
Homeमध्यप्रदेशStartup in Indore इंदौर ने स्वयं को देश की 'स्टार्टअप वैली' की...

Startup in Indore इंदौर ने स्वयं को देश की ‘स्टार्टअप वैली’ की तरह किया है तैयार

- Advertisement -

इंडिया न्यूज़ Startup in Indore: इंदौर ने स्वयं को देश की ‘स्टार्टअप वैली’ की तरह तैयार कर लिया है जिसकी वजह से दुनिया भर के स्टार्टअप के खिलाड़ी इंदौर की तरफ खिंचे आ रहे हैं

स्टार्टअप के मामलों में इंदौर ने इतनी तेजी, त्वरा और ताकत दिखाई है कि इससे उत्साहित होकर मध्य प्रदेश ने राज्य की स्टार्टअप नीति बना डाली है। इस नीति का शुभारंभ हाल ही में 13 मई को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया।

इंसुलेशन गोंद तैयार कर भाई – बहन ने किया हैरान

इंदौर निवासी पंकज केसकर व बहन पल्लवी केसकर ने एक्वाटेक पालिमर्स नामक कंपनी बनाई। इसके तहत ढाई साल तक गहन शोध्ा कर ऐसा इंसुलेशन गोंद तैयार किया, जो भारत में अब तक बनता ही नहीं था। यह खास तरह का रासायनिक गोंद बिजली के ट्रांसफार्मर के आंतरिक पुर्जों को जोड़ने में अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। भारत सरकार की दिग्गज कंपनी भेल इस गोंद को जर्मनी की दिग्गज कंपनी एलांटास से खरीदती थी, लेकिन पंकज व पल्लवी ने इसे इंदौर में तैयार करने का दुस्साहस दिखाया और सफल हुए। इन्होंने भोपाल स्थित भेल को अपना इंसुलेशन गोंद भेजा तो भेल के वरिष्ठ इंजीनियर्स चकित रह गए।

एक लाख रुपये से किया काम शुरू

उन्होंने तमाम परीक्षणों के बाद जर्मनी की कंपनी के बजाय इंदौर के स्टार्टअप को गोंद सप्लाई का आर्डर दिया। एलांटास का गोंद 450 रुपये किलो था, जबकि इंदौर की एक्वाटेक पालीमर्स का गोंद बेहतर क्वालिटी के बावजूद केवल 170 रुपये किलो में सप्लाई किया गया। एक लाख रुपये से काम शुरू करने वाले इन इंदौरी भाई-बहनों ने 7000 करोड़ के टर्नओवर वाली कंपनी का एकाधिकार तोड़ दिया।

आठ देशों की कंपनियों की ब्रांडिंग करता है इंदौर का स्टार्टअप

ब्रांडिंग के इस दौर में अमेरिका, आस्ट्रेलिया, नीदरलैंड्स, यूएई, कनाडा सहित आठ देशों की कई दिग्गज कंपनियों को जब अपनी ब्रांडिंग करनी होती है, तो वे इंदौर के स्टार्टअप ‘मोशन जिलेटी’ की मदद लेती हैं। इंदौर निवासी पति-पत्नी हिमांशु व कोमल चतुर्वेदी के दिमाग में ब्रांडिंग स्टार्टअप का आइडिया 2015 में आया। दो साल शोध के बाद 2017 में शुरुआत की।

कम समय, कम लागत और शानदार क्वालिटी की एनिमेटेड वीडियो ब्रांडिंग ऐसी रही कि 2018 में दुनिया की तेल दिग्गज अबूधाबी नेशनल आइल कंपनी ने इन्हें आर्डर दिया। इन्हें आवाज सुनकर काम करने वाली डिवाइस ‘एलेक्सा’ की तरह इस कंपनी के लिए ‘मीरा’ नामक वाइस असिस्टेंट डिजाइन करनी थी। इन्होंने यह कर दिखाया। इसके बाद तो कई देशों की दिग्गज कंपनियों के आर्डर मिलने लगे। कंपनी की फाउंडर कोमल चतुर्वेदी कहती हैं- ‘हम अब भारत की ब्रांडिंग दुनिया में करने का हौसला रखते हैं, इसलिए अब 18 से 45 आयु वर्ग के लिए ह्यूमर और विट से भरपूर 30-30 सेकंड की कार्टून मूवी भी बनाएंगे’।

ये भी पढ़े : PM-Modi-Launch-5G-Test-Beds पीएम मोदी ने भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) के रजत जयंती समारोह के अवसर पर 5जी टेस्ट बेड का शुभारंभ किया

ये भी पढ़े : krishak Mitra In Madhya Pardesh मध्य प्रदेश सरकार तैनात करेगी 26 हजार कृषक मित्र

ये भी पढ़े : Guna shootout आरोपियों ने की जेल से भागने की कोशिश

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular