Friday, October 7, 2022
Homeमध्यप्रदेशMadhya Pradesh मैकेनिकल इंजीनियर ने की बेरहमी से आत्महत्या
Homeमध्यप्रदेशMadhya Pradesh मैकेनिकल इंजीनियर ने की बेरहमी से आत्महत्या

Madhya Pradesh मैकेनिकल इंजीनियर ने की बेरहमी से आत्महत्या

इंडिया न्यूज़, Madhya Pradesh News: मध्य प्रदेश में एक दिल दहलाने वाला आत्महत्या मामला सामने आया है। यहां पर एक इंजीनियर ने खुद को बड़ी को खुद को बेरहमी से मार डाला है। घटना नर्मदापुरम जिले की बताई जा रही है । आत्महत्या करने वाला व्यक्ति मैकेनिकल इंजीनियर था जिसकी उम्र 40 साल आसपास थी।

पुलिस कर रही मामले की जाँच

आत्महत्या करने का तरीका इतना भयानक था की जिसे देख जिसे देख कर मन कांपने लगता है लगता की मैकेनिकल इंजीनियर ने यह भयानक आत्मघाती कदम क्यों उठाया? इसे लेकर अलग-अलग कयास लगाए जा रहे हैं। अब पुलिस इस पूरे मामले की तफ्तीश कर रही है।

इंटरनेट पर खोजा था मृतक ने आत्महत्या का तरीका

शुरुआती जांच-पड़ताल में यह बात भी सामने आई है कि इंजीनियर ने इंटरनेट पर जाकर यह खोजा था कि खुद को आसान मौत कैसे दें? इसके बाद उन्होंने मरने के लिए एक अजीबोगरीब रास्ता चुना था।

पॉलीथिन से बांधकर चेहरा की आत्महत्या

बताया जा रहा है कि आत्महत्या करने के लिए इंजीनियर ने अपने चेहरे पर पॉलीथिन बांध लिया। इसके बाद उन्होंने इसमें नाइट्रोजन गैस भर दी। चिकित्सकों का कहना है कि उनकी मौत Asphyxiation से हुई है। बता दें कि एस्फिक्सिया से मौत तब होती है जब आपके शरीर को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलता है।

बैतुल जिले वाला था

मृतक इंजीनियर की पहचान चेतन भूमरकर के तौर पर हुई है। वो बैतुल जिले के रहने वाले थे। उनके परिजनों का कहना है कि वो लंबी बीमारी से काफी परेशान थे। उनकी डेड बॉडी सोमवार को उनके घर में मिली है। बताया जा रहा है कि चेतन की नौकरानी ने घर के अंदर से बदबू आने की बात पड़ोसियों को बताई थी।

सुसाइड नोट भी बरामद

इसके बाद पुलिस भी मौके पर पहुंची थी। पुलिस ने वहां से सुसाइड नोट भी बरामद किया है। इस सुसाइड नोट में चेतन ने लिखा था कि उनकी मौत के लिए कोई जिम्मेदार नहीं है। इसके बाद पुलिस ने केस दर्ज कर डेड बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

बताया जा रहा है कि चेतन के एक रूम पार्टनर भी थे और उनका नाम लखन कुशवाहा था। घटना से पहले लखन अपने गांव गए थे। रविवार की सुबह लखन को उनकी नौकिरानी ने फोन कर बताया था कि चेतन घर का दरवाजा नहीं खोल रहे। लखन सोमवार को वापस आए और उन्होंने पड़ोसियों की मदद से घर का दरवाजा खोला था।

सुसाइड नोट में लिखी यह बात..

बताया जा रहा है कि चेतन के माता-पिता का कुछ बरसों पहले निधन हो गया था। उनकी छोटी बहन इंदौर में पढ़ाई कर रही हैं। जो सुसाइड नोट मिला है उसमें लिखा गया है- मैं चेतन भूमराकर म्यूनिसिपैलिटी में डिप्टी इंजीनियर हूं। मैं बीमारी से परेशान हूं। इसकी वजह से मैं अपना काम ठीक से कर पाने में असमर्थ हूं। मेरे मरने पर मेरे परिवार या किसी और को परेशान ना करें।

Read More: भोपाल पहुंची शतरंज ओलंपियाड की मशाल रिले

Read More: सरपंच पद पर जीत के बाद लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे, देश विरोधी नारे लगाने के वीडियो की जांच शुरू

connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular