Saturday, October 8, 2022
Homeमध्यप्रदेशएमपी के कुनो नेशनल पार्क में आने से पहले अफ्रीकी चीतों की...
Homeमध्यप्रदेशएमपी के कुनो नेशनल पार्क में आने से पहले अफ्रीकी चीतों की...

एमपी के कुनो नेशनल पार्क में आने से पहले अफ्रीकी चीतों की स्वास्थ्य जाँच

इंडिया न्यूज़, Madhya Pradesh News : नामीबिया के चीतों को जल्द ही मध्य प्रदेश के कुनो नेशनल पार्क में बसाया जाएगा और इसके लिए इन खूबसूरत जीवों को विशेषज्ञों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम द्वारा पूरी तरह से स्वास्थ्य जाँच प्राप्त हुई है। चीता संरक्षण कोष (CCF) नामीबिया में एकHealth Checkup of African Cheetahs Before Arrival in Kuno National Park शोध संस्थान है जो जंगली चीतों को बचाने के लिए समर्पित है।

विंडहोक में भारतीय दूतावास ने नामीबिया के पर्यावरण और पर्यटन मंत्रालय को यह सुनिश्चित करने के लिए चिकित्सा जांच के आयोजन के लिए धन्यवाद दिया कि चीता उत्कृष्ट स्वास्थ्य में हैं। जानकारी के मुताबिक, प्रसिद्ध विशेषज्ञ डॉ. लॉरी मार्कर के नेतृत्व में विशेषज्ञ दल द्वारा चीतों का स्वास्थ्य जाँच किया गया। नामीबिया में भारतीय उच्चायुक्त प्रशांत अग्रवाल भी मौजूद थे।

जबकि चीता, जिसे व्यापक रूप से ग्रह के सबसे तेज जानवर के रूप में जाना जाता है। भारत में वापसी करने के लिए तैयार है। इन चीतों को दो से तीन महीने के लिए विशेष रूप से निर्मित 500 हेक्टेयर के बाड़े में रखा जाएगा। एक बार जब वे पर्यावरण के अनुकूल हो जाएंगे। तो उन्हें बाड़े के बाहर खुले में छोड़ दिया जाएगा। अन्य छोटे जानवरों को भी यहां पर्याप्त संख्या में लाया जा रहा है ताकि चीते भोजन के लिए शिकार कर सकें।

वर्तमान में 150 से 200 सांभर हैं। जिनमें चीतल, मोर और जंगली सूअर भी शामिल हैं। 500 हेक्टेयर क्षेत्र को 8 फीट ऊंची फेंसिंग से बंद कर दिया गया है। पूरे बाड़े में कुल 8 दरवाजे हैं। जिनमें से 4 प्राइमरी प्रवेश द्वार हैं। साथ ही उनकी सुरक्षा और रखरखाव के लिए कैमरे भी लगाए गए हैं। जानकरी के मुताबिक, पांच तेंदुए मौजूद थे। जबकि अफ्रीकी चीतों के लिए अद्वितीय बाड़े का निर्माण किया जा रहा था क्योंकि तेंदुए चीतों के लिए खतरनाक हैं।

विभागीय प्रयास उन्हें स्थानांतरित कर रहे हैं। इस विशेष पिंजरे में अभी भी तीन तेंदुए मौजूद हैं। इन तेंदुओं को आसानी से पकड़ने के लिए बाड़े के अंदर भोजन के साथ पिंजरे भी बनाए गए हैं। भालू, लकड़बग्घा और अन्य जानवरों को पहले ही बाहर निकाला जा चुका है लेकिन यहां मौजूद तीन तेंदुओं के लिए यह सिरदर्द बन गया है।

कुनो वन्यजीव मंडल के प्रभागीय वन अधिकारी ने कहा कि 1948 में भारत में विलुप्त होने के बाद 1952 में चीता को औपचारिक रूप से विलुप्त घोषित कर दिया गया था। उन्होंने कहा , “भारत में चीतों को लाने की योजना के पहले चरण के लिए केवल कुनो को चुना गया है। पूरा वन विभाग इसे लेकर रोमांचित है। यहां चीतों को बसाने के लिए अंतिम चरण की सभी तैयारियां की जा रही हैं।

Read More : मध्य प्रदेश बांध टूटा : बांध की दीवार टूटने से बढ़ा खतरा

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular