Friday, October 7, 2022
Homeमध्यप्रदेश70 साल बाद भारत में अब फिर दिखेंगे चीते, नामीबिया से लाया...
Homeमध्यप्रदेश70 साल बाद भारत में अब फिर दिखेंगे चीते, नामीबिया से लाया...

70 साल बाद भारत में अब फिर दिखेंगे चीते, नामीबिया से लाया जाएगा पहला जत्था

इंडिया न्यूज़, Sheopur (Madhya Pradesh): राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के सदस्य ने कहा कि चीतों का पहला बैच 17 सितंबर को मध्य प्रदेश के श्योपुर में नामीबिया से कुनो राष्ट्रीय उद्यान लाया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक, एनटीसीए के सदस्य सचिव एसपी यादव कहा, “हमें आठ चीते मिल रहे हैं। प्रधानमंत्री 17 सितंबर को एमपी के कुनो नेशनल पार्क में चीता पुनरुत्पादन परियोजना का शुभारंभ करेंगे।

उन्होंने कहा, “यह एक बड़ा और ऐतिहासिक समय है और पूरी दुनिया में ऐसा कोई दूसरा उदाहरण नहीं है जहां इसे जारी किया जा रहा है और एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप में लाया जा रहा है और इसके लिए सभी अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन किया जा रहा है। अभी तक, हमारी योजना 17 सितंबर की सुबह चीतों को लाने की है और इसके लिए हमने एक चार्टर्ड कार्गो विमान किराए पर लिया है।

चीता नामीबिया की राजधानी विंडहोक से जयपुर आएंगे और फिर हेलीकॉप्टर से पालपुर कुनो नेशनल पार्क आएंगे और फिर उन्हें रिहा करने का कार्यक्रम होगा। हेलीपैड भी बनाया गया है। उन्होंने कहा, चीतों को भारत वापस लाना एक ऐतिहासिक क्षण होगा। आप जानते हैं कि 1947-48 में छत्तीसगढ़ में कोरिया के महाराजा द्वारा अंतिम तीन चीतों का शिकार किया गया था और आखिरी चीता को 1952 में उसी समय देखा गया था।

भारत ने चीता को विलुप्त घोषित कर दिया और तब से हम लगभग 75 वर्षों के बाद चीतों को पुनर्स्थापित कर रहे हैं। चीतों को पहले 30 दिनों के लिए संगरोध में लाया जाएगा। संगरोध की व्यवस्था की जाती है। उनके स्वास्थ्य और अन्य मापदंडों की निगरानी की जाएगी और उसके बाद जब यह पता चलेगा कि वे जाँच के बाद पूरी तरह से स्वस्थ हैं। तो उन्हें बड़े बाड़ों में रखा जाएगा।

जानकारी के अनुसार, 6 वर्ग किलोमीटर में घेरा बनाया गया है, और इसमें नौ डिब्बे हैं। जिनमें से आठ चीतो के लिए हैं। निगरानी की जाएगी कि क्या चीता ने अनुकूलित किया है या नहीं। देश की जलवायु है या नहीं और वह सहज महसूस कर रहे हैं या नहीं और इन सभी पर बहुत बारीकी से नजर रखी जाएगी। पीएम मोदी अफ्रीका से लाए जा रहे चीतों को राज्य के जंगलों में भी छोड़ेंगे। 1952 में विलुप्त घोषित होने के 70 साल बाद भारत में बड़ी चीतों को फिर से पेश किया जाएगा।

ये भी पढ़े : स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का 99 वर्ष की आयु में निधन

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular