Thursday, July 7, 2022
Homeमध्यप्रदेशBJP-Congress War of Words Over Farmers in MP पूर्व सीएम कमलनाथ के...
Homeमध्यप्रदेशBJP-Congress War of Words Over Farmers in MP पूर्व सीएम कमलनाथ के...

BJP-Congress War of Words Over Farmers in MP पूर्व सीएम कमलनाथ के ट्वीट पर शिवराज ने दिया जवाब

BJP-Congress War of Words Over Farmers in MP

इंडिया न्यूज़, भोपाल:

BJP-Congress War of Words Over Farmers in MP मध्य प्रदेश(Madhya Pradesh) में किसानों के मुद्दे सत्ताधारी भाजपा(BJP) और विपक्षी पार्टी कांग्रेस (opposition party congress)एक बार फिर आमने सामने होती नजर आ रही हैं। एमपी के पूर्व सीएम कांग्रेस के कमलनाथ (kamalnath)ने ट्वीट किया है कि प्रदेश सरकार किसानों को न तो खाद ही दे पा रही है और न ही बीज मुहैया करवा पा रही है खराब हुई फसल के बारे में तो पूछो ही मत। किसान मुआवजे के लिए दर-दर भटक रहे हैं। इस बात पर सीएम शिवराज सिंह चौहान(shivraj singh chouhan) ने पलटवार करते हुए कहा कि हमने किसानों के खाते में 1.73 लाख करोड़ रुपए डाल दिए हैं। आप जनता को बरगलाना बंद करें।

BJP-Congress War of Words Over Farmers in MP
BJP-Congress War of Words Over Farmers in MP

सीएम शिवराज का कमलनाथ को जवाब

मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज चौहान ने मंच से कहा कि जिन लोगों ने कभी एक धेला तक नहीं दिया आज वह लोग हमारी नीतियों के खिलाफ बोल रहे हैं। बता दें कि शिवराज चौहान आज इंदौर में फसल बीमा के लिए मेरे पॉलिसी मेरे हाथ कार्यक्रम में बोल रहे थे। शिवराज सिंह चौहान ने इस दौरान जमकर कांग्रेस सरकार पर हमला बोला।

सीएम शिवराज का कमलनाथ को जवाब
सीएम शिवराज का कमलनाथ को जवाब

Read More: Unique Deepotsav in Ujjain, Madhya Pradesh अब होगा उज्जैन का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल

चुनावों से पहले किसानों पर गरमाई राजनीति

बता दें कि अगले साल मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। इसके लिए प्रदेश में राजनीतिक पार्टियों ने तैयारियों भी शुरू कर दी हैं। किसानों का मुद्दा उठने के बाद ऐसा प्रतीत हो रहा है कि अगले विधानसभा चुनावों में मध्य प्रदेश की राजनीति किसानों के इर्द गिर्द घूम सकती है।

बताते चलें कि इंदौर में मंच से शिवराज ने पूर्व सीएम कमलनाथ का नाम लेकर कई बार बोलते हुए कहा कि वह और उनके साथ जो मंत्री थे, सुन लें। कि हमने अपने अधिकारियों को कहा है कि नुकसान पूरा लिखा होना चाहिए अगर कम लिखा तो नौकरी से हाथ धो बैठोगे। आपने तो अपने राज में अधिकारियों को किसानों के कम नुकसान लिखने के लिए बोल दिया गया था।

चुनावों से पहले किसानों पर गरमाई राजनीति
चुनावों से पहले किसानों पर गरमाई राजनीति

Read More: Indore is Preparing to Become a Smart City for the Sixth Time भारत का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular