Saturday, October 8, 2022
Homeभोपालएमपी की आजीविका योजना ने महिलाओं को मजदूरों से छोटे व्यवसाय के...
Homeभोपालएमपी की आजीविका योजना ने महिलाओं को मजदूरों से छोटे व्यवसाय के...

एमपी की आजीविका योजना ने महिलाओं को मजदूरों से छोटे व्यवसाय के मालिक बनने का दिया अवसर

इंडिया न्यूज़, Bhopal (Madhya Pradesh): मध्य प्रदेश में गरीब और कमजोर वर्गों के जीवन को बदलने के उद्देश्य से ‘आजीविका मिशन’ एक नई सफलता की कहानी लिख रहा है। मध्य प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (एमपीएसआरएलएम) के तहत गठित स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) ने राज्य की कई महिलाओं को मजदूरों से छोटे व्यवसाय के मालिक बनने का अवसर दिया है। वे न केवल सुखी जीवन जी रही हैं .

बल्कि अपने साथियों को एक नई राह भी दिखा रही हैं। 3.86 लाख से अधिक महिला एसएचजी से जुड़ी 45 लाख से अधिक महिलाएं एमपीएसआरएलएम या राज्य आजीविका मिशन के तहत काम कर रही हैं। ये समूह सब्जी उत्पादन, दूध उत्पादन, अगरबत्ती, हाथ धोने, साबुन बनाने, कृषि और पशुपालन आधारित आजीविका गतिविधियों और आजीविका पोषण ‘वाटिका’ के संचालन में शामिल हैं।

इनमें से एक एसएचजी श्योपुर की सुनीता आदिवासी चला रही है। पहले वह एक मजदूर के रूप में 30 से 50 रुपये की दैनिक मजदूरी कमाती थी लेकिन आज वह मालिक बन गई है। वह एक एसएचजी में शामिल हो गई और आटा चक्की स्थापित करने के लिए 70,000 रुपये का ऋण लिया।

आटा चक्की इस तरह चलती थी कि वह उससे हर महीने 30,000 रुपये से ज्यादा कमाने लगी और कर्ज की रकम चुका दी। बाद में, उसने खेती से संबंधित गतिविधियों के लिए 50,000 रुपये का एक और ऋण लिया और एक ट्यूबवेल स्थापित किया। इतना ही नहीं, उन्होंने 2.5 बीघा जमीन में अमरूद लगाया, इसके अलावा उन्होंने एक चार पहिया वाहन भी खरीदा है, जिसे वे ‘आजीविका वाहन’ (आजीविका वाहन) कहती हैं।

सुनीता आदिवासी अपने पुराने दिनों को याद करते हुए याद करती हैं कि कभी उन्हें मजदूरी की चिंता करनी पड़ती थी, लेकिन आज वह मालिक बन गई हैं और हर महीने 70,000 रुपये से ज्यादा कमा रही हैं। उनकी सालाना आमदनी 10 लाख से ज्यादा है।

ऐसी ही कहानी श्योपुर के कराहल की कालिया बाई कुशवाहा की है, जो राधा एसएचजी से जुड़ी हैं। वह कहती है कि जब वह एसएचजी में शामिल हुई, तो उसका जीवन बदलने लगा। कुशवाहा याद करते हैं कि अतीत में, कई मौकों पर वे (वह और उनका परिवार) मुश्किल से एक दिन में भोजन की व्यवस्था कर पाते थे। वह और उसका पति मिलकर मुश्किल से 150 रुपये प्रतिदिन कमाते थे।

आज स्थिति बदल गई है। उसने कर्ज लिया और फिर एक हाथ की गाड़ी खरीदी जिस पर वह आइसक्रीम बेचने लगी। इसके साथ ही उन्होंने एक सिलाई मशीन भी खरीदी। धीरे-धीरे स्थिति बदली और आज वह मालिक बन गई है।

कुशवाहा का कहना है कि एसएचजी से करीब 450 महिलाएं जुड़ी हुई हैं, जिनमें से 300 ऐसी महिलाएं थीं जो काम की तलाश में बाहर जाती थीं, लेकिन आज उनके हालात बदल गए हैं। महिलाओं को मछली पालन का प्रशिक्षण भी दिया गया है और वे अच्छी कमाई कर रही हैं।

कुल मिलाकर एमपीएसआरएलएम के तहत काम करने वाली एसएचजी से जुड़ी महिलाओं की स्थिति में लगातार बदलाव आ रहा है, जिससे वे मजदूरों और नौकरों से मालिक बन रही हैं।

ये भी पढ़े : ग्वालियर : डाकघर में चोरों ने सेंध लगाई, एक लाख रुपये की चोरी

ये भी पढ़े : मध्य प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में एक बार फिर अच्छी बारिश की संभावना

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular