Tuesday, September 27, 2022
Homeभोपालमध्य प्रदेश: बाघ से लड़ी मां, बचाई 15 महीने के बच्चे की...
Homeभोपालमध्य प्रदेश: बाघ से लड़ी मां, बचाई 15 महीने के बच्चे की...

मध्य प्रदेश: बाघ से लड़ी मां, बचाई 15 महीने के बच्चे की जान

इंडिया न्यूज़, Bhopal News : पंजे से उसके फेफड़ों में छुरा घोंपा, एक 25 वर्षीय माँ ने एक बाघ से लड़ाई की। निहत्थे और अपने नवजात बच्चे को उसके जबड़े से छीन लिया। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के किनारे जंगली मुठभेड़ में दोनों खून से लथपथ और गंभीर रूप से घायल हो गए – लेकिन वे जीवित बाहर आ गए।

मां और बच्चा अस्पताल में हैं और उम्मीद की जा रही है कि वे ठीक हो जाएंगे। 15 महीने की बच्ची के सिर पर गहरे घाव हैं। जबकि उसकी मां के फेफड़े खराब हो गए और पेट में गहरे घाव हो गए। कुछ देर के लिए अर्चना की हालत ने डॉक्टरों को चिंतित कर दिया लेकिन सोमवार शाम तक वह स्थिर हो गई।

उमरिया जिले के बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के माला बीट के अंतर्गत आने वाले रोहनिया गांव में अर्चना अपने परिवार के साथ रहती हैं। वह अपने बेटे रविराज को झोंपड़ी से बाहर निकालने के लिए निकली थी। तभी एक बाघ ने झाड़ियों से छलांग लगा दी और बच्चे पर हमला कर दिया।

यह बच्चे के सिर पर चढ़ गया और उसके नुकीले नुकीले गले में डालने की कोशिश की लेकिन माँ ने बचाव के लिए छलांग लगा दी। अर्चना ने अपने नंगे हाथों का इस्तेमाल बाघ से लड़ने और उसे काटने से रोकने के लिए किया। हर समय मदद के लिए चिल्लाती रही। कुछ मिनटों तक जीवन-मृत्यु का संघर्ष चलता रहा जब बाघ बच्चे को छीनने की कोशिश करता रहा लेकिन मां बीच-बीच में लात मारती और मुक्का मारती रही।

बाघ के पंजों द्वारा किए गए घावों और कटों को नजरअंदाज करते हुए – कुछ इतने गहरे कि उन्होंने उसके फेफड़ों को खराब कर दिया – उसने ग्रामीणों को उसकी सहायता के लिए दौड़ने के लिए काफी देर तक रोक दिया। बाघ ने उनको छोड़ दिया और वापस जंगल में कूद गया। ग्रामीण मां और बच्चे को लेकर मानपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए।

जहां उन्हें प्राथमिक उपचार देकर 30 किमी दूर उमरिया के जिला अस्पताल भेजा गया। जानकारी के अनुसार, उनके पति ने बताया कि लड़ाई में उनके पेट, पीठ और हाथों में चोटें आई हैं। उमरिया कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ने अस्पताल में महिला और उसके बेटे से मुलाकात की और उन्हें हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

उन्हें आगे के इलाज के लिए 130 किमी दूर जबलपुर रेफर कर दिया गया है। ग्रामीणों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कलेक्टर ने वन विभाग के साथ बैठक की। बाघ को वापस उसके क्षेत्र में धकेलने के लिए तलाशी अभियान जारी है। ग्रामीणों को रात में घर के अंदर रहने को कहा गया है।

ये भी पढ़े : मध्य प्रदेश : पीएम मोदी अपने जन्मदिन पर कुनो वन्यजीव अभयारण्य का करेंगे दौरा

ये भी पढ़े : एमपी के 2 शिक्षकों को राष्ट्रपति ने किया सम्मानित

ये भी पढ़े : इंदौर : एक व्यक्ति दुनिया भर से भगवान गणेश की मूर्तियों के साथ घर को सजाता है

ये भी पढ़े : इंदौर में अवैध हथियार और 10 कारतूस सहित 5 गिरफ्तार

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular