Saturday, September 24, 2022
Homeभोपालवीवो पर ईडी का छापा : प्रवर्तन निदेशालय की जांच के दौरान...
Homeभोपालवीवो पर ईडी का छापा : प्रवर्तन निदेशालय की जांच के दौरान...

वीवो पर ईडी का छापा : प्रवर्तन निदेशालय की जांच के दौरान भारत छोड़कर चीन भाग गए वीवो कंपनी के दो डायरेक्टर

इंडिया न्यूज़, ED Raid on Vivo: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने चीनी मोबाइल कंपनी वीवो के 44 ठिकानों पर छापा मारा था। ईडी को शक है की वीवो कंपनी ने कथित शेल कंपनियों का उपयोग करके अवैध रूप से धन कमाया। जैसे ही ईडी ने अपनी जाँच तेज की कंपनी से संबंधित फर्म के दो डायरेक्टर झेंगशेन ओउ और झांग जी भारत छोड़कर चीन भाग गए हैं।

ईडी ने वीवो कंपनी 44 ठिकानों पर छापा मारा था

प्रवर्तन निदेशालय ने मंगलवार को चीनी स्मार्टफोन निर्माता VIVO और उससे जुड़ी हुई फर्मों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग केस में 44 स्थानों पर तलाशी ली गई थी। ED के अधिकारियों ने जानकारी दी कि धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) की धाराओं के तहत छापेमारी की जा रही है। ईडी ने दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मेघालय, महाराष्ट्र और अन्य राज्यों में Vivo और उससे संबंधित कंपनियों से जुड़े 44 स्थानों पर तलाशी ले रही है।

ed-raid-on-vivo

 

शेल कंपनियों के जरिए धन की हेराफेरी का आरोप

ED को शक है कि वीवो कंपनी ने कथित शेल कंपनियों का उपयोग करके अवैध रूप से कमाए गए धन की हेराफेरी की है। कुछ ‘‘आपराधिक आय’’ को विदेश भेजा गया या भारतीय कर और प्रवर्तन एजेंसियों को धोखा देकर कुछ अन्य व्यवसायों में लगा दिया गया। इस कार्रवाई को चीनी संस्थाओं और उनसे जुड़े भारतीय पक्षों के खिलाफ केंद्र सरकार की कार्रवाई के हिस्से के रूप में देखा जा रहा है।

जानिए कंपनी कैसे आई शक के घेरे में

दिल्ली पुलिस की इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (EOW) ने जम्मू-कश्मीर स्थित वीवो के एक डिस्ट्रीब्यूटर्स के खिलाफ केस दर्ज किया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि कुछ चीनी नागरिक कंपनी के शेयरहोल्डर्स थे और उन्होंने पहचान के तौर पर फर्जी डॉक्यूमेंट का इस्तेमाल किया है। इसके बाद EOW की FIR का संज्ञान लेते हुए ED हरकत में आ गई और Vivo कंपनी के खिलाफ प्रिवेन्शन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत केस दर्ज किया।

जब ईडी ने जांच शुरू की तो पता चला कि कथित जालसाजी के लिए कई शेल कंपनियां बनाई गईं थी और इसके जरिए अवैध रूप से कमाई गई रकम की हेराफेरी की गई थी। एजेंसी को इस बात का भी शक है कि अवैध रूप से कमाई गई रकम को विदेशों में भेजा गया था या फिर टैक्स डिपार्टमेंट और कानूनी एजेंसियों को धोखे में रखकर भारत में कुछ दूसरे बिजनेस में लगा दिया गया था।

भारत में VIVO कंपनी का बड़ा बाजार

मार्केट रिसर्च फर्म IDC के मुताबिक भारत के वीवो की हिस्सेदारी 15 फीसदी के आसपास है और साल 2022 की पहली तिमाही में 55 लाख स्मार्टफोन का शिपमेंट किया था। वहीं दूसरी ओर काउंटरप्वाइंट रिसर्च की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 10 से 20 हजार रुपये की कीमत के 5G स्मार्टफोन में वीवो भारत का सबसे बड़ा 5G ब्रांड है।

Read More: रोहित शर्मा ने बनाया टी-20 मैच में रिकॉर्ड, बने रिकॉर्ड बनाने वाले पहले भारतीय कप्तान

Read more: एमपी पंचायत चुनाव 2022: मध्य प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तीसरे चरण के लिए मतदान शुरू

Read more: हरियाली तीज 2022 : हरियाली तीज में सिंधारा का क्या है महत्व 

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular