Saturday, October 8, 2022
Homeभोपालभोपाल : इस मानसून बिजली गिरने से हुई कुल 115 की मौत
Homeभोपालभोपाल : इस मानसून बिजली गिरने से हुई कुल 115 की मौत

भोपाल : इस मानसून बिजली गिरने से हुई कुल 115 की मौत

इंडिया न्यूज़, Bhopal News : मानसून के इस मौसम में राज्य में बिजली गिरने से 115 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। जिसमें हर दिन तीन से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। पूर्वी मध्य प्रदेश में बिजली गिरने की घटनाएं अधिक देखी गई हैं। जबकि पश्चिम एमपी विशेष रूप से इंदौर और उज्जैन, अब तक सबसे कम प्रभावित हुए हैं।

इन स्थानों पर हुई अधिक मौतें

जिन स्थानों पर अधिक मौतें हुई हैं उनमें छतरपुर 10, गुना, छिंदवाड़ा, नरसिंहपुर में छह-छह, बालाघाट, सागर में पांच-पांच और सिवनी में चार शामिल हैं। गुना को छोड़कर सभी जगह MP के पूर्वी हिस्से में आते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि ग्लोबल वार्मिंग और प्रदूषण बिजली गिरने का मुख्य कारण है।

मौसम विभाग भोपाल मंडल के वरिष्ठ वैज्ञानिक ने कहा कि ग्लोबल वार्मिंग ने न केवल सतह के तापमान में वृद्धि की है। बल्कि पिछले 120 वर्षों में वायुमंडलीय तापमान में भी वृद्धि हुई है। वायुमंडलीय तापमान 0.7 डिग्री से बढ़कर 0.9 डिग्री हो गया है। जबकि प्रदूषण के कारण ग्लेशियरों के पिघलने के अलावा तापमान में वृद्धि और वायुमंडलीय अस्थिरता हुई है।

कई घटनाओं में लोगों को शरण लेने का भी मौका नहीं मिला

नतीजतन बादल बनने के लिए नमी हमेशा उपलब्ध रहती है। प्रदूषण के कारण बादल के भीतर चार्ज करने की क्षमता बढ़ जाती है। जिससे बिजली गिरती है और गड़गड़ाहट होती है। देश भर में लाइटिंग के मामलों में 37 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि देखी गई है। उन्होंने कहा कि कई घटनाओं में लोगों को शरण लेने का भी मौका नहीं मिलता।
पूर्वी मध्य प्रदेश में अधिक बिजली गिरने का कारण भौगोलिक प्रभाव है।

यह मौसम प्रणाली के ट्रैक पर भी निर्भर करता है

भोपाल मंडल के पूर्व मौसम विज्ञान ने कहा कि पूर्वी MP में भौगोलिक प्रभाव अधिक प्रमुख है। जिसके कारण यहां बिजली गिरने की घटनाएं अधिक हुई हैं। “संवहनी बादल बिजली की ओर ले जाते हैं। यह मौसम प्रणाली के ट्रैक पर भी निर्भर करता है। मानसून ट्रफ लाइन का मार्ग इसे प्रभावित करता है। मॉनसून के उत्तरी हिस्से में इस तरह की गतिविधियां मॉनसून ट्रफ के दक्षिणी हिस्से की तुलना में अधिक देखी जाती हैं।

मानसून की आधी अवधि अभी बाकी है

बिजली गिरने से हुई मौतों को देखते हुए राज्य सरकार ने हाल ही में सभी जिला अधिकारियों को आवश्यक कार्रवाई करने के लिए एडवाइजरी जारी की थी। विशेषज्ञों का डर है कि अगर इसी रफ्तार से चलता रहा तो मौतों की संख्या दोगुनी हो सकती है। क्योंकि मानसून की आधी अवधि अभी बाकी है।

ये भी पढ़े: MP News : मध्य प्रदेश में बड़ा हादसा13 की मौत, 25 से ज्यादा लापता

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular